Breaking News

आत्मविश्वास और निर्भीकता के साथ जीना सीखें लड़कियांः छोटी गुरूमां

समाज में महिलाओं के प्रति अपराध के मामले दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं और यह एक गहन चिन्ता का विषय है। यह बात लाईफ केयर एण्ड पीस मिशन की संस्थापक एवं प्रेरक गुरू छोटी गुरूमां ने उनके मिशन द्वारा राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला, भट्ठाकुफर में आयोजित शिविर में छात्राओं को सम्बोधित करते हुए कही।

छात्राओं का आहवान करते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें शिक्षा के साथ-साथ खुद में आत्मविश्वास को पैदा करना चाहिए। उन्होंने कहा कि उन्हें आत्म रक्षा के लिए समाज में निर्भीक होकर कार्य करना चाहिए ताकि वे स्वंय अपराधों का निडरता से मुकाबला कर सकें।

महिलाओं के प्रति छेड़छाड़ के मामलों पर चिन्ता व्यक्त करते हुए छोटी गुरूमां ने कहा कि वह किसी पर निर्भर रहने की बजाए अपनी सुरक्षा स्वंय सुनिश्चित करें और निर्भीक होकर समाज में जीएं।

छोटी गुरूमां ने छात्राओं से लक्ष्य निर्धारित कर उसकी प्राप्ति के लिए कार्य करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि यह गर्व की बात है कि लड़कियां आज हर क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित कर रही है।

उन्होंने कहा कि उनका मिशन भारत के कोने-कोने में इस प्रकार के शिविर आयोजित कर रहा है जिसका उददेश्य महिलाओं, विशेषकर लड़कियों को समाज में सशक्त बनाना है ताकि वे खुद को कमजोर और असहाय महसूस करने की बजाए आत्मनिर्भर बनें।

उच्च शिक्षा विभाग के संयुक्त निदेशक डा.चन्द्रेश्वर शर्मा ने छोटी गुरू मां का स्वागत करते हुए कहा कि लड़कियों में आत्मरक्षा तथा सुरक्षा के प्रति जागरूकता पैदा करने के लिए मिशन के सौजन्य से विभिन्न स्कूलों में 23 नवम्बर से 30 नवम्बर तक इस प्रकार के शिविर आयोजित किए जा रहे हैं।

शिक्षा विभाग की ओ.एस.डी. डा. देवेन्द्र प्रभा शर्मा, भट्ठाकुफर स्कूल की प्रधानाचार्य विद्या सोलंकी तथा स्कूल की अध्यापिकाएं भी इस अवसर पर उपस्थित थीं।

इससे पूर्व, छोटी गुरूमां ने राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला जुनगा में आयोजित शिविर में छात्राओं को सम्बोधित किया।

Leave a Reply

Our Visitor

0 2 5 9 3 3
Users This Month : 426
x

Check Also

नेशनल चैंपियन सुरेंद्र बहल का गृह जिला जिला में यस, हिमाचल द्वारा स्वागत नरेंद्र अत्री ने स्मृति चिन्ह व टोपी पहना कर किया अभिनंदन

नेशनल चैंपियन सुरेंद्र बहल का गृह जिला जिला में यस, हिमाचल द्वारा स्वागत नरेंद्र अत्री ने ...