Latest Posts

कसुम्पटी में पार्किंग के नाम पर 5 साल में दूसरी बार शिलान्यास,काम अभी तक नही हुआ शुरू,कांग्रेस ने उठाए सवाल

 

।कसुम्पटी में पार्किंग के नाम पर 5 साल में दूसरी बार शिलान्यास,काम अभी तक नही हुआ शुरू,कांग्रेस ने उठाए सवाल

राजधानी शिमला में विकास कार्य भी राजनीति की भेंट चढ़ रहे। शहर में पूर्व की नगर निगम द्वारा कई पार्किंग के निर्माण के लिए शिलान्यास किए लेकिन  शिलान्यास  के 5 साल बीत जाने के बाद भी काम शुरू नही हुआ वही अब भाजपा शासित  नगर निगम  उन्ही पार्किंग का  शिलान्यास करने में जुट गई है। उप नगर कसुम्पटी में 26 अप्रैल 2017 में पार्किंग बनाने का सीपीआईएम के महापौर द्वारा  शिलान्यास किया गया था इसके लिए बाकायदा बजट का प्रावधान भी किया गया। लेकिन चुनाव के बाद भाजपा नगर निगम पर काबिज हुई तो इस पार्किंग का निर्माण भी ठंडे बस्ते में डाल दिया गया। जबकि एसडीए कॉम्प्लेक्स में अधिकतर सरकारी विभाग और बैंक के कार्यालय हैं और यहां पर पार्किंग ना होने से सड़क सड़क किनारे सी गाड़ियां खड़ी कर देते हैं।  हालांकि  4 सालों से इस पार्किंग के निर्माण कार्य को शुरू करवाने को लेकर पूर्व पार्षद सुरेंद्र चौहान द्वारा हस्ताक्षर अभियान भी चलाए गए और शहरी विकास मंत्री को ज्ञापन भी सौंपे गए ।  लेकिन काम शुरू नहीं हुआ वही बीते माह  ना नगर निगम द्वारा फिर से क्षेत्र में पार्किंग के लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर सिंह से दोबारा शिलान्यास करवाया गया । दोबारा से शिलान्यास होने के एक माह बाद भी इसका कार्य शुरू नही हो पाया है।

जिस पर अब कांग्रेस द्वारा सवाल खड़े किए जा रहे हैं।  पूर्व पार्षद और कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष सुरेंद्र चौहान ने कहा  की इस क्षेत्र में काफी ज्यादा सरकारी विभाग है और लोग भी विभागों में काम के चलते हर रोज पहुंचते हैं लेकिन यहां पर गाड़ियों के पार करने के लिए कोई भी पार्किंग नहीं है जिसके चलते लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। जिसको देखते हुए 2017 में नगर निगम के महापौर संजय चौहान से इस क्षेत्र में पार्क निर्माण का शिलान्यास करवाया गया लेकिन चुनाव होने के चलते इसका निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया और अब 5 साल बीत जाने के बाद भी इस क्षेत्र में इस पार्किंग का निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया और अब दोबारा से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को अधिकारियों द्वारा गुमराह करके दोबारा से इसका शिलान्यास करवाया गया जोकि दुर्भाग्यपूर्ण है ।

बाईट । सुरेंद्र चौहान पूर्व पार्षद