कोरोना के खतरे को देखते हुए स्वास्थ विभाग सतर्क, बूस्टर डोज लगाने का किया अभियान शुरू, डीडीयू अस्पताल में लगा सख्ते है बूस्टर डोज

कोरोना के खतरे को देखते हुए स्वास्थ विभाग सतर्क, बूस्टर डोज लगाने का किया अभियान शुरू, डीडीयू अस्पताल में लगा सख्ते है बूस्टर डोज

कोरोना के बढ़ते खतरे की आशंका के बीच स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है। सरकार कोरोना से निपटने के लिए फिर से तैयारियो में जुट गई है और अस्पतालों में दवाई सहित अन्य इंतजाम के निर्देश दिए है वही कोरोना की बूस्टर डोज लगाने का अभियान शुरू कर दिया है . शहर के डीडीयू अस्पताल में शुक्रवार से बूस्टर डोज लगना शुरू हो गई है ओर 6 दिन तक यहां लोग बूस्टर डोज लगवा सकते है। शुक्रवार को काफी लोग डोज लगवाने अस्पताल पहुंचे।

डीडीयू अस्पताल के एमएस डॉक्टर लोकेंद्र शर्मा ने कहा कि कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर शिमला का डीडीयू अस्पताल पूरी तरह से तैयार है। अस्पताल में पीपीई किट, मास्क,सैनिटाइजर, ऑक्सीजन सिलेंडर आदि प्रयाप्त मात्रा में है। उन्होंने कहा कि अस्पताल में अभी तक कोरोना का कोई भी मरीज नहीं है। उन्होंने कहा कि अस्पताल के अभी 10 वायले बूस्टर डोज की उपलब्ध हैं। 1 वायल के 10 मरीजों को डोज लगाई जाती है। ऐसे में जो व्यक्ति पहले ही किसी बीमारी से ग्रस्त है तो वह जल्द से जल्द बूस्टर डोज लगाएं।
वहीं उन्होंने कहा कि नए वेरिएंट में खांसी और जुखाम के लक्षण नहीं है बल्कि इस वैरिएंट में ज्वाइंट पेन, सिर दर्द, गले में दर्द, पीठ में दर्द जैसे लक्षण सामने आ रहे है। उन्होंने बताया कि कोरोना का नया वैरिएंट, डेल्टा वैरिएंट के मुकाबले 5 गुना तेजी से फैलता है ऐसे में उन्होंने लोगों से अपील की है कि कोरोना नियमों का पालन करें।