कोरोना से निटपने के लिए डीडीयू के पास पर्याप्त सुविधाएं ,,,लोकेंद्र शर्मा

कोरोना से निटपने के लिए डीडीयू के पास पर्याप्त सुविधाएं ,,,लोकेंद्र शर्मा

कोविड के नियमों का पालन करने के लिए हो सकती है सख्ती

सूबे में कोरोना संक्रमण को लेकर स्वास्थ्य विभाग  अलर्ट हो गया है। प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल आईजीएमसी और रिपन अस्पताल आने वाले लोगों को अब मास्क पहनना जरूरी कर दिया गया है। अस्पतालों में बिना मास्क के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है।

शिमला में शुक्रवार  से कोरोना वैक्सीन ड्राइव शुरू की गई। 28 दिसंबर तक रिपन में मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य केंद्र और आईजीएमसी में लोग वैक्सीन लगा सकते हैं।बता दें कि सुबह 10 बजे से लेकर शाम 4 बजे तक कोरोना वैक्सीन की पहली, दूसरी और बूस्टर डोज लोग लगा सकेंगे। वैक्सीन के ये डोज फ्री में लगेंगे। इसके लिए आधार कार्ड के अलावा अपना रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर होना जरूरी है। इसके अलावा जिला शिमला के जोनल अस्पतालों पीएचसी में भी कोरोना वैक्सीन लगाई जा रही है।वही डीडीयू के एमएस डॉ लोकेन्द्र शर्मा ने कहा कि स्वास्थ्य डीडीयू प्रशासन कोरोना से निपटने के लिए तैयार है ।डीडीयू असप्ताल में दवाइयों का पूरा स्टॉक है साथ ही हमारे पास ऑक्सीजन सिलेंडर,पीपीई किट,एन-95मास्क सभी सुविधाएं पर्याप्त मात्रा में है और कोविड सेंटर भी पहले से ही बने हुए है।उन्होंने कहा कि अभी तक डीडीयू में एक भी मामला कोविड पोस्टिव का नही है।उन्होंने कहा कि अगर कोई मरीज आता है तो हम उसके लिए पूरी तरह तैयार हैं। उन्होंने कहा कि नए कोरोना वैरीअंट के लक्षण  इसमें पहले की तरह न बुखार आ रहा है और न ही कफ,इसमें मरीज को जॉइंट पेन हो रही है,सिर दर्द,गर्दन में दर्द,इस तरह के लक्षण देखने मे ज्यादा आ रहे हैं,उन्होंने कुछ एक मरीजों में पहले जैसे ही हैं लक्षण पाए जा रहे हैं।उन्होंने कहा कि यदि किसी व्यक्ति को जुखाम बुखार गले मे खराश जैसे लक्षण आये तो तुरंत अस्पताल जा कर टेस्ट करवाए ओर अपने आप को आइसोलेट कर ले । उन्होंने कहा कोरोना से बचने के लिए कोविड नियमो का पालन करना जरूरी है।