क्रिसमस को लेकर सजने लगे शिमला के बाजार, इन वस्तुओं की हो रही है विशेष डिमांड

क्रिसमस को लेकर सजने लगे शिमला के बाजार, इन वस्तुओं की हो रही है विशेष डिमांड

25 दिसम्बर को मनाए जाने वाले क्रिसमस को लेकर पहाड़ो की रानी शिमला में तैयारियां शुरू हो गई हैं। शहर में जहा चर्च में क्रिसमस को लेकर तैयारियां चल रही है वही बाजार भी क्रिसमस को लेकर सजकर तैयार हो गए है। बाजारों में क्रिसमस के गिफ्ट आइटम सबको लुभा रहे हैं। क्रिसमस ट्री, सांता क्लॉज, सांता क्लॉज का मास्क से दुकानें सजा दी गई हैं। कैंडल, क्रिसमस बैनर, सांता क्लॉज की ड्रेस, क्रिसमस कार्ड्स, बेल वाले झूमर, लटकन वाले सांता क्लॉज, लाइटिंग सांता क्लॉज, थर्मोकोल के स्टीकर लोगों को खूब पसंद आ रहे हैं। शिमला के लोअर बाजार, मिडल बाजार, राम बाजार, लक्कड़ बाजार सहित मेन बाजार माल रोड दुकानों पर खरीददारों की भीड़ उमड़ने लगी है। पाइन क्रिसमस ट्री से लेकर बर्फ में भीगा क्रिसमस ट्री बाजार में कई तरह के क्रिसमस ट्री मिल रहे हैं। सामान्य ट्री व पाइन क्रिसमस ट्री उपलब्ध हैं।

लोअर बाजार में रेडीमेड सामान की दुकान चलाने वाले मयंक अरोड़ा का कहना है कि इस बार लोग काफी खरीदारी कर रहें है काफी नए प्रॉडक्ट भी इस बार आए है फैंसी ड्रेस में भी काफी तरह की वैरायटी उपलब्ध है ख़ास तौर पर बच्चों में काफी उत्साह दिखाई दे रहा है इस बार सेंटा क्लॉज की ड्रेस में वैरायटी बच्चों के आकर्षण का केंद्र बने हुए है छोटे सेंटा 30 से शुरु है तो सेंटा ड्रेस 230 रूपए से रखी गई है सभी वस्तुओं की कीमत वाजिब दामों पर रखी गई है ओर क्रिसमस को लेकर हर तरह का सामान ओर गिफ्ट आइटम यहां उपलब्ध है।

वाइट क्रिसमस की आस ,एडवांस बुकिंग करवा रहे पर्यटक

शिमला में इन दिनों काफी संख्या में सैलानी पहुंच रहे हैं। क्रिसमस को लेकर पर्यटक एडवांस में ही होटलों में बुकिंग करवा रहे है और वाईट क्रिसमस की आस में हर साल पर्यटक शिमला पहुचते है। पर्यटको को काफी उम्मीद है कि इस बार शहर में व्हाइट क्रिसमस मनाने का मौका मिलेगा।हालांकि अभी तक मौसम साफ बना हुआ है ।अभी फिलहाल क्रिसमस पर बर्फबारी की कम संभावना है।

क्राइस्ट चर्च में आज होगी विशेष प्रार्थना

शिमला के प्रसिद्ध व ऐतिहासिक क्राइस्ट चर्च में क्रिसमस की तैयारियां जोरों पर हैं। चर्च को सुंदर व रंग बिरंगी लाइटों से सजाया जाएगा है। चर्च में विशेष प्रथना सभाओं का आयोजन होता है जिसमे इसाई धर्म के लोग ही नही बल्कि अन्य समुदाय के लोग भी चर्च में पार्थना सभाओं में शामिल होते है। खास कर बाहरी राज्यो के पर्यटक यहां क्रिसमस मनाने आते है।