Latest Posts

प्रदेश सरकार इस बार मिड डे मील के तहत प्रदेश के सरकारी स्कूलों, आंगनबाड़ी और बालबाड़ी केंद्रों को पौष्टिक आहार के तहत सेब भी उपलब्ध करवाएगी

 

प्रदेश सरकार इस बार मिड डे मील के तहत प्रदेश के सरकारी स्कूलों, आंगनबाड़ी और बालबाड़ी केंद्रों को पौष्टिक आहार के तहत सेब भी उपलब्ध करवाएगी. इसके अलावा प्रदेश के सभी होटल कारोबारियों से भी सरकार  आग्रह करेगी कि वे भी अपने होटलों में छोटी पैकिंग में सेब रखें ताकि प्रदेश के बाहर से आने वाले पर्यटकों को आसानी से सेब उपलब्ध हो सके और वह होटल से ही सेब खरीद सकें. बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि इस विषय पर कैबिनेट में भी चर्चा की गई है. स्कूल में मिड डे मील दिया है वहां पर भी ऐसा विचार कर रहे हैं  कैबिनेट में भी इस बार चर्चा की गई हैअस्पताल और  आंगनवाडी बालवाड़ी मैं भी छोटे-छोटे बच्चों को पौष्टिक आहार दिया जाता है तो ऐसे में यह सोचा जा रहा है कि वहां पर सेब को देंगे जिससे बच्चों ओर मरीजों को भी फायदा होगा ।

उन्होंने कहा कि सचिव उद्यान 1 जुलाई को बागवानों के साथ बैठक करेंगे. इस बैठक में प्रदेश के सभी क्षेत्रों से बागवान प्रतिनिधियों को बुलाया जाएगा. ताकि उनकी आशंकाओं को दूर किया जा सके और सीजन सही ढंग से निपट सके इसके लिए भी कदम उठाए जा सकें. सचिव उद्यान की बैठक से निकले मुख्य बिंदुओं को बीओडी की बैठक में चर्चा के लिए लाया जाएगा और उसके बाद उन्हें लागू किया जाएगा. महेंद्र सिंह ने कहा कि वह लगातार पेटियां बनाने वाली कंपनियों के साथ संपर्क में है और उन पर दाम अधिक ना बढ़ाने का दबाव बनाए हुए हैं.

उन्होंने कहा कि इस बार सेब की बंपर क्रॉप है लेकिन लंबे समय तक बारिश नहीं होने के कारण सुखा रहा जिससे सेब का साइज नहीं बन पाया है. ऐसे में बागवानों को मंडियों में सेब के ऊंचे दाम मिलने में दिक्कत हो सकती है. जिसके चलते सरकार की खरीद एजेंसियों एचपीएमसी एग्रो हिमफैड इन सभी पर अधिक दबाव आ सकता है इसके लिए प्रदेश सरकार ने तैयारियां शुरू कर दी हैं उन्होंने कहा कि कुछ ही दिनों में शिमला जिला के पराला का प्रोसेसिंग प्लांट लिस्ट शुरू कर दिया जाएगा इसमें शुरुआत में सेब कंसंट्रेटर पर काम किया जाएगा.

सेब कार्टन के दामों में बढ़ोतरी पर बोलते हुए बागवानी मंत्री ने कहा कि इस बारे में कार्टन मालिकों से बातचीत की जा रही है. ताकि किसानों को उचित दामों पर कार्टन उपलब्ध करवाए जा सकें. उन्होंने कहा कि सचिव उद्यान 1 जुलाई को बागवानों के साथ बैठक करेंगे. इस बैठक में प्रदेश के सभी क्षेत्रों से बागवान प्रतिनिधियों को बुलाया जाएगा. ताकि उनकी आशंकाओं को दूर किया जा सके और सीजन सही ढंग से निपट सके इसके लिए भी कदम उठाए जा सकें.