Latest Posts

बिलकिस बानो मामले में जनवादी महिला समिति से केंद्र व गुजरात भाजपा सरकार के फैसले की निंदा

जनवादी महिला समिति ने केंद्र की भाजपा सरकार और गुजरात की सरकार के उस निर्णय की कड़ी निन्दा की है जिसके तहत 11 बलात्कारियों को 15 अगस्त के दिन जेल से रिहा किया गया।
इस वर्ष 15 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दिल्ली के लाल किले से देश की जनता को सम्बोधित कर रहे थे और कह रहे थे कि महिलाओं की सुरक्षा होनी चाहिए और नारी का समान होना चाहिए ठीक उसी बक्त गुजरात की सरकार ने बिलकिस बानो के आरोपियों को रिहा करते हुये उनको फूलमलाये पहनाई गई और मिठाईया खिलाकर बलात्कारियों को एक नायक के तौर पर पेश कर रहे थे।
2002 में गोधरा काण्ड के बाद जब साम्प्रदायिक नरसंहार फैला था तो बिलकिस बानो के परिवार की 5 औरतों के साथ गैंगरेप और हत्या हुई थी बिल्किस उस बक्त 5 महीने की गर्भवती थी और उसके साथ भी गैंगरेप हुआ था इसकी तीन वर्ष की बच्ची का सिर धरती पर पटक कर इसकी भी हत्या कर दी गई थी। आज देश की महिलाये उसी जगह पर खड़ी है जंहा सरकार ने उनको 2002 में खड़ा किया था ।
आज लगतार महिलाओं के साथ बालात्कार की घटनाएं सामने आ रही है। लेकिन हमारे देश की सरकार बलात्कारियों को बचाने में लगी है और उनके साथ खड़ी है। सरकार किसी समुदाय विशेष की महिलाओ को आज चिह्नित कर रही है औऱ धर्म और जात के नाम पर देश को बांट रही है ।यह सरकार संविधान को खत्म करके मनुस्मृति को लागू करना चाहती है।
जनवादी महिला समिति ने आज पूरे प्रदेश में बिल्किस बानो को न्याय देने के लिए और बलात्कारियों को जेल भेजने के लिए प्रदर्शन किये शिमला में प्रदर्शन में महिला समिति की जिला उपाध्यक्ष कलावती राज्य सदस्य तथा शिमला शहरी अध्यक्ष मीना कपूर शहरी कमेटी सदस्य गज़ाला अनवर, सलमा ,नूरबानों, रिहाना, फराह, गुडो, शहजादी, इलो,आदि ने भाग लिया।