Latest Posts

मल्टी टास्क भर्ती में महिलाओ से सीमेंट बोरी उठाने पर भड़की कांग्रेस

)

मल्टी टास्क भर्ती में महिलाओ से सीमेंट बोरी उठाने पर भड़की कांग्रेस,  महिलाओ की क्षमताओं का दिया अपमान करार

शिमला : -मल्टी टास्क  भर्ती के लिए महिलाओं से 50 किलो की सीमेंट की बोरी उठाने के मामलों पर कांग्रेस भड़क गई है और इसे महिलाओं का अपमान करार दिया है । कांग्रेस प्रवक्ता किरण धांटा  ने कहा कि एक तरफ तो भाजपा महिला सशक्तिकरण की बड़ी-बड़ी बातें करती हैं वहीं महिलाओं का अपमान करने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी है महिलाओं के सम्मान में मुख्यमंत्री ने धर्मशाला से नारी को नमन योजनाएं शुरू की गई लेकिन उन नारियों को ही अपमानित किया जा रहा है।  उन्होंने  मल्टी टास्क भर्ती के लिए महिलाओं से 50 किलो की सीमेंट की बोरी उठवाना महिलाओं की क्षमताओं का अपमान करार दिया है। प्रवक्ता का कहना है कि आज की महिलाएं  पुरुषों से कम नहीं है परन्तु इस का यह अर्थ नहीं है कि आप उन की शारीरिक क्षमताओं का आकलन इस प्रकार से करें जिस में सभी महिलाएं अपनी योग्यताओं और क्षमताओं को प्रदर्शित न कर सके। हिमाचल प्रदेश में सभी महिलाओं का भगौलिक क्षेत्र के आधार पर शारीरिक रूप से होने वाले कार्यों को करने का तरीका अलग अलग है परन्तु सत्तासीन भाजपा सरकार शायद हिमाचल प्रदेश की महिलाओं की परिस्थिति से तथा हिमाचल प्रदेश के गाँवों  की परिस्थिति से जागरूक नहीं है। सत्तासीन भाजपा सरकार को हिमाचल के लोगों की समस्या की जानकारी नहीं है इसीलिए यह सरकार नौकरी के लिए ऐसे मापदंडों का उपयोग कर रही है जिसमें सभी महिलाओं के लिए नौकरी का एक सामान मौका नहीं है। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि सत्तासीन भाजपा महिलाओं का सशक्तिकरण महिलाओं की क्षमताओं को अपमानित कर के कर रही है। उन्होंने भाजपा की नेत्रियों से भी प्रश्न किया है कि आज वो महिलाओं के हक़ के लिए आवाज़ क्यों नहीं उठा रही है। क्या भाजपा की नेत्रियों को महिलाओं के साथ हो रहे इस व्यवहार में महिला सशक्तिकरण नज़र आ रहा है। भाजपा के नेताओं को अपनी कथनी और करनी दोनों को ठीक करने की आवश्यकता है। इस तरह से महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि भाजपा महिला नेत्री अभी भी इस मुद्दे पर खामोशियों बैठे हैं धर्मशाला में एक विधायक द्वारा अपनी पत्नी को प्रताड़ित किया जाता है उसे घर से निकाला जाता है और समय भी भाजपा नीतियां  एक शब्द तक नहीं बोला जबकि उन्होंने मुख्यमंत्री से लेकर प्रधानमंत्री तक न्याय की गुहार लगाई थी भाजपा नेत्रियां  केवल राजनीतिक रोटियां सेकने का काम करते हैं।