मुख्यमंत्री ने अन्तरराष्ट्रीय रेणुका जी मेले की प्रथम सांस्कृतिक संध्या की अध्यक्षता की

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज सिरमौर जिला के रेणुका स्थित रेणु मंच में सात दिवसीय अंतरराष्ट्रीय रेणुका जी मेले की प्रथम सांस्कृतिक संध्या की अध्यक्षता की।
मुख्यमंत्री ने मेला समिति द्वारा अंतरराष्ट्रीय श्री रेणुका जी मेले के शुभ अवसर पर प्रकाशित की गई स्मारिका का विमोचन भी किया।
मुख्यमंत्री ने लोगों को संबोधित करते हुए ददाहू में खण्ड विकास कार्यालय, धरतीधार और बचर बाग में आईटीआई (सेमधार) और धरतीधार में पशु औषधालय खोलने की घोषणा की। उन्होंने संगड़ाह में विद्युत बोर्ड का मण्डल कार्यालय खोलने और राजकीय उच्च पाठशाला बागथान को राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला में स्तरोन्नत करने, राजकीय माध्यमिक पाठशाला सत्तार बढ़ो को राजकीय उच्च पाठशाला में स्तरोन्नत करने और क्षेत्र की दो राजकीय प्राथमिक पाठशालाओं को राजकीय माध्यमिक पाठशाला में स्तरोन्नत करने की घोषणा की।
जय राम ठाकुर ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय रेणुका मेला प्रदेश के महत्वपूर्ण मेलों में से एक है, जिसमें भगवान परशुराम और माता रेणुका के मिलन को दर्शाया गया है। उन्होंने कहा कि यह मेला न केवल धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है बल्कि राज्य को समृद्ध संस्कृति का भी प्रतीक है।
जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश इस वर्ष को राज्य की स्वर्ण जयंती वर्ष के रूप में मना रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य ने विकास के क्षेत्र में  अनेक उपलब्धियां हासिल की हैं। हिमाचल प्रदेश आज न केवल पहाड़ी राज्यों, बल्कि देश के बड़े राज्यों के लिए भी एक आदर्श राज्य के रूप में उभरा है। उन्होंने राज्य के पहले मुख्यमंत्री डाॅ. वाई.एस. परमार के योगदान को भी याद किया। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के कारण पिछले दो वर्ष प्रभावित हुए हंै, लेकिन राज्य सरकार ने यह सुनिश्चित किया कि विकास की गति निर्बाध रूप से चलती रहे। उन्होंने कहा कि देश भाग्यशाली है कि इस कठिन समय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रूप में एक सशक्त नेतृत्व देश को मिला है। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा समय पर लिए गए निर्णयों और उठाए गए
कदमों के कारण ही भारत शेष दुनिया के लिए प्रभावी कोविड प्रबंधन के लिए एक माॅडल के रूप में सामने आया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने कोविड महामारी के दौरान यह सुनिश्चित किया है कि कोविड मरीजों के लिए आॅक्सीजन, वेंटिलेटर, बिस्तरों आदि की कोई कमी न हो। उन्होंने कहा कि राज्य में जब यह महामारी फैली थी, तो उस समय राज्य में केवल 50 वेंटिलेटर थे। राज्य सरकार ने केन्द्र और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मामले को उठाया और केन्द्र सरकार द्वारा पीएमकेयर के तहत 500 वेंटिलेटर राज्य को शीघ्र प्रदान किए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे करीब अढ़ाई लाख हिमाचलियों को विशेष बसों और ट्रेनों के माध्यम से घर वापस पहुंचाया है। उन्होंने कहा कि दो वर्ष पूर्व राज्य में केवल दो ही आॅक्सीजन प्लांट थे, लेकिन आज राज्य में 30 पीएसए आॅक्सीजन प्लांट हैं।
जय राम ठाकुर ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार का एकमात्र उद्देश्य प्रदेश का समग्र व संतुलित विकास सुनिश्चित करना है।
उपायुक्त सिरमौर एवं अध्यक्ष मेला समिति आर.के. गौतम ने मुख्यमंत्री को स्मृति चिन्ह तथा डांगरा प्रस्तुत कर सम्मानित किया। उन्होंने सात दिवसीय मेले में आयोजित होने वाली विभिन्न गतिविधियों की विस्तृत जानकारी भी दी।
राज्य रेडक्राॅस सोसायटी की उपाध्यक्षा एवं मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी डाॅ. साधना ठाकुर, ऊर्जा मंत्री सुखराम चैधरी, सांसद एवं भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप, नाहन के विधायक डाॅ. राजीव बिन्दल, रेणुका के विधायक विनय कुमार, पच्छाद की विधायक रीना कश्यप, राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के उपाध्यक्ष बदलेव तोमर, राज्य कृषि विपणन बोर्ड के अध्यक्ष बलदेव भंडारी, सिरमौर जिला परिषद की अध्यक्षा सीमा, क्षेत्र के वरिष्ठ भाजपा नेता बलवीर चैहान, खंड विकास समिति संगड़ाह के अध्यक्ष मेला राम शर्मा, सिरमौर के कृषि उत्पाद विपणन समिति के अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा व पुलिस अधीक्षक ओमापति जम्वाल भी इस अवसर पर उपस्थित थे।