सरकार को 15 सितम्बर की कैबिनेट बैठक में स्थाई नीति को मंजूरी देने की रखी माग

 

शिमला एसएमसी शिक्षको ने खत्म किया क्रमिक अनशन , सरकार को 15 सितम्बर की कैबिनेट बैठक में स्थाई नीति को मंजूरी देने की रखी माग, नीति न बनाने पर आंदोलन की चेतावनी

शिमला :- हिमाचल प्रदेश के दूरदराज के स्कूलों मर सेवाएं दे रहे एसएमसी शिक्षको ने क्रमिक अनशन खत्म कर दिया है। smc शिक्षक एसोसिएशन शनिवार को शिमला के डीसी ऑफिस के बाहर 25 घण्टे की सांकेतिक हड़ताल पर बैठे थे एसोसिएशन ने आगामी 15 सितम्बर को होने वाली कैबिनट बैठक में स्थाई नीति बनाने की माग रखी है और यदि कैबिनेट बैठक में स्थाई नीति पर कोई चर्चा नही होती है तो महासंघ ने आगामी रणनीति तैयार कर उग्र आंदोलन शुरू करने के साथ ही आगामी विधानसभा चुनावों में भाजपा सरकार के खिलाफ वोट करने का एलान भी कर दिया है।
SMC एसोसिएशन के अध्यक्ष मनोज रोंगटा ने कहा कि पिछले दस सालों से प्रदेश के दुर्गम क्षेत्रो में एसएमसी शिक्षक सेवाएं दे रहे है लेकिन सरकार उनके लिए कोई भी नीति नही बना रही है। 25 जुलाई को प्रदेश दर के शिक्षक अपनी मांगों को लेकर राज्य सचिवालय भी पहुचे थे और मुख्यमंत्री ने स्वयं मंत्रिमंडल की बैठक से उठकर उनकी मांगों को सुना और उन्हें आश्वासन दिया.लेकिन वो आश्वासन अभी तक धरातल पर नहीं उतरा और पिछली मंत्रिमंडल की बैठक उनका एजेंडा नहीं लाया गया।जिसके चलते शिक्षको को मजबूरन 25 घण्टे की संकेतिक क्रमिक अनशन पर बैठना पड़ा और आज अनशन खत्म कर दिया है उम्मीद है की सरकार जल्द शिक्षको के लिए स्थाई नीति बनाएगी ओर यदि नीति नही बनाई जाती है तो एसोसिएशन द्वारा आगामी रणनीति तैयार की जाएगी।