स्मार्ट सिटी के अधिकतर काम 31 मार्च तक होंगे पूरे : भारद्वाज

शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि अमु्रत और स्मार्ट सिटी मिशन के अंतर्गत अधिकतर कार्य जिनमे पार्किंग और ओवर ब्रिज भी शामिल हैं, 31 मार्च 2022 तक पूरे हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि शिमला में गिरि नदी में गाद की समस्या के समाधान के लिए ट्यूबसेटलर 15 दिसंबर तक काम करना शुरू करेंगे।
सुरेश भारद्वाज आज शिमला नगर निगम और शिमला जल प्रबंधन लिमिटेड के अधिकारियों के साथ स्मार्ट सिटी और अम्रुत के कार्यांे की समीक्षा करते हुए संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शिमला शहर में पहले अमु्रत और उसके बाद स्मार्ट सिटी मिशन के तहत विकास के काम चल रहे हैं।
उन्होंने कहा कि शिमला शहर कि सड़कों को चैड़ा करने और छोेटे पार्किंग स्थल विकसित करने पर विशेष बल दिया जा रहा है। अमु्रत मिशन के अंतर्गत लगभग 150 गाडि़यों की क्षमता वाली पार्किंग का काम 31 मार्च 2022 तक पूरा हो जायेगा। मंत्री ने संजौली चैक ओवर ब्रिज को 31 मार्च 2022 और संजौली महाविद्यालय के नीच बन रहे ओवर ब्रिज को अगले माह तक पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने संजौली फुट ओवर ब्रिज में रैंप बनाने और एक्सेलरेटर की सम्भावना तलाशने के भी निर्देश दिए।
मंत्री ने रानी लक्ष्मी बाई पार्क (लेडीज पार्क) को बड़े शहरों के एम्यूजमेंट पार्क की तर्ज पर विकसित करने के निर्देश देते हुए कहा कि इस पार्क के लिए लगभग 50 लाख रूपये की राशि स्वीकृत हुई है। उन्होंने कहा कि पार्क में सेल्फी प्वाइंट, बच्चों के खेलने के लिए जरूरी सामान लगा कर विकसित किया जाए।
शिमला शहर के 5 वार्डों में 24 घंटे पानी की सप्लाई कि योजना को लेकर भी बैठक में चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि 15 दिसंबर तक 24 घंटे पानी मिलना शुरू हो जायेगा।
बैठक में स्मार्ट सिटी के तहत बन रही 450 गाडि़यों की 30 छोटी पार्किंग पर भी चर्चा हुई। उन्होंने बताया कि विभिन्न वार्डों में बन रही ये पार्किंग 31 मार्च, 2022 तक बन कर तैयार हो जाएंगी। स्मार्ट सिटी मिशन के तहत करीब एक हजार करोड़ के कार्य शिमला में किए जाएंगे जिनमें से अधिकतर पर कार्य जारी है।
बैठक में निदेशक शहरी विकास मनमोहन शर्मा, शिमला नगर निगम आयुक्त आशीष कोहली व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।