हर्षवर्धन को कार्यालयों का करना चाहिए था स्वागत, बंद होने पर कर रहे स्वागत जनता देगी जवाब:- जनक

कांग्रेस में मंत्री बनने की होड़ : जनक राज

• हर्षवर्धन को कार्यालयों का करना चाहिए था स्वागत, बंद होने पर कर रहे स्वागत जनता देगी जवाब

शिमला, भाजपा के विधायक डॉक्टर जनक राज, सुखराम चौधरी और रीना कश्यप ने कहा कि जिस प्रकार से आज कांग्रेस के नेता हर्षवर्धन चौहान ने प्रेस वार्ता की उससे साफ कांग्रेस पार्टी का भाजपा से डर झलकता है।
भाजपा नेताओं ने कहा की जो सरकार 15 दिन से अपने कैबिनेट का गठन नहीं कर पाई है वहां प्रदेश चलाने की क्या बात करती है।
पूर्व मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने जिस प्रकार से हिमाचल प्रदेश के समग्र विकास के लिए काम किया वह ऐतिहासिक है, हिमाचल प्रदेश में सभी 68 विधानसभा क्षेत्रों और 12 जिलों में संतुलित विकास हुआ।
आज कांग्रेस हिमाचल प्रदेश में नकारात्मक राजनीति कर रही है और सरकारी कार्यालयों को बंद कर रही है, पर हम कांग्रेस नेताओं को बताना चाहेंगे कि जितने भी कार्यालय यह बंद कर रहे हैं इन को कैबिनेट की मंजूरी मिली थी और जब हिमाचल में कांग्रेस सरकार की कैबिनेट ही घटित नहीं हुई है तो वह इन कार्यालयों को बंद कैसे कर सकते हैं , यह सीधा सीधा संविधान का उल्लंघन है।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता विधायकों की जिस समिति की बात कर रहे हैं उन विधायकों की तो अभी तक शपथ भी नहीं हुई । यह समिति कार्यालय बंद करने की बात कैसे कर सकती है।
कर्ज लेने की शुरुआत तो कांग्रेस पार्टी ने की थी और हिमाचल प्रदेश को कर्ज में कांग्रेस पार्टी ने डुबाया।
भाजपा नेताओं ने कहा कि कांग्रेस के विधायक हर्षवर्धन चौहान जितना भी सरकार के पक्ष में बोल ले पर उनके बोलने से वह मंत्री नहीं बन जाएंगे , जो काम उनके विधानसभा इलाके में कांग्रेस के 60 साल के शासन में नहीं हुआ वह भाजपा की जयराम ठाकुर सरकार ने 5 साल में कर दिखाया, आज शिल्लाई विधानसभा क्षेत्र में जितने भी कार्यालय खुले वह जयराम ठाकुर सरकार की देन है । पर यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि वह अपने ही इलाके में बंद हुए कार्यालयो का स्वागत कर रहे है, इसका जवाब तो जनता देगी।
हर्षवर्धन चौहान जी चाटुकारिता से कुछ नहीं मिलता।
उन्होंने कहा कि आज हिमाचल प्रदेश सरकार की दयनीय हालत है, कुल 15 दिन के भीतर ही हिमाचल प्रदेश की जनता सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर गई है।
यह स्थिति स्पष्ट करती है की हिमाचल में सरकार अस्थिर है।