31 मई को 18 से 44 आयु वर्ग के 25514 लोगों का कियाजाएगा टीकाकरण

राज्य में 18 से 44 वर्ष के आयु वर्ग के लोगों के टीकाकरण के लिए 31 मई, 2021 को 25514 लोगों का टीकाकरण किया जाएगा। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक डाॅ. निपुण जिंदल ने आज यहां कहा कि टीकाकरण के लिए पूरे राज्य में 252 टीकाकरण केन्द्र बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि 31 मई, 2021 को टीकाकरण के लिए पंजीकरण करवाने तथा सत्र् बुक करने के लिए पूरे प्रदेश में कोविन पोर्टल पर 29 मई को आॅनलाइन स्लाॅट जारी किए गए थे।

उन्होंने सभी लोगों से असुविधा और अनावश्यक भीड़ से बचने के लिए अपने निर्धारित शेड्यूल के अनुसार ही टीकाकरण केन्द्रों में आने का आग्रह किया है। उन्होंने लोगों से टीकाकरण केंद्रों में कोविड अनुरूप व्यवहार का पालन करने का भी आग्रह किया है।

डाॅ. निपुण जिंदल ने कहा कि 31 मई, 2021 को जिला बिलासपुर में 14 सत्र के लिए 1560 लोगों, जिला चम्बा में 15 सत्र के लिए 1319 लोगों, जिला हमीरपुर में 17 सत्र के लिए 1810 लोगों, जिला कांगड़ा में 46 सत्र के लिए 4599 लोगों, जिला किन्नौर में 2 सत्र के लिए 280 लोगों ने पंजीकरण करवाया है। जिला कुल्लू में 15 सत्र के लिए 1870 लोगों, जिला मण्डी में 41 सत्र के लिए 4090 लोगों ने, जिला शिमला में 34 सत्र के लिए 3405 लोगों ने, जिला सिरमौर में 21 सत्र के लिए 2068 लोगों ने, जिला सोलन में 29 सत्र के लिए 2880 लोगों ने और जिला ऊना में 16 सत्र के लिए 1633 लोगों ने पंजीकरण करवाया है।

उन्होंने कहा कि टीकाकरण के लिए आॅन-साइट पंजीकरण की नई रणनीति के अनुसार जिला लाहौल-स्पीति के जनजातीय व दुर्गम क्षेत्रों में 2 सत्र आयोजित किए जाएगे, जिनमें एक सत्र् काजा में 77 लाभार्थियों और एक केलांग में 66 लाभार्थियों के लिए आयोजित किया जाएगा। जिला चंबा के पांगी ब्लाॅक में 180 लोगों के लिए आॅन-साइट पंजीकरण के साथ 2 सत्र आयोजित किए जाएगे।

स्वीकृत कोविड टीकाकरण केंद्रों पर ही किया जाएगा टीकाकरण

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक डाॅ. निपुण जिंदल ने कहा कि कोविड महामारी से निपटने के लिए टीकाकरण एक महत्वपूर्ण बचाव उपाय हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में लोगों को अब तक कुल 23,59,142 डोज लगाई गई हैं, जिसमें 19,23,289 पहली डोज और 4,35,853 दूसरी डोज शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि कोविड टीकाकरण के लिए सरकार द्वारा प्रभावी रणनीति बनाई गई है। उन्होंने कहा कि यह पाया गया है कि देश के कुछ हिस्सों में कुछ निजी अस्पताल होटलों के सहयोग से कोविड टीकाकरण का पैकेज दे रहे है, जो राष्ट्रीय कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के अन्तर्गत जारी दिशा-निर्देशों के खिलाफ हैं। भारत सरकार ने इस बारे में सभी राज्यों को कोविड टीकाकरण के दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार प्रदेश में केवल सरकारी कोविड टीकाकरण केंद्रों, निजी अस्पतालों द्वारा चलाए जा रहे निजी कोविड टीकाकरण केंद्रों, कार्य स्थल कोविड टीकाकरण केंद्रों और घर के नजदीक बनाए गए कोविड टीकाकरण केंद्रों में ही कोविड टीकाकरण की स्वीकृति प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि दिशा-निर्देशों के अनुसार स्वीकृत स्थानों के अलावा यदि होटलों या अन्य किसी स्थान पर टीकाकरण किया जाता है तो आयोजकों के खिलाफ कानूनी और प्रशासनिक कार्रवाई की जाएगी।

कोविड टीकाकरण की प्राथमिकता समूह सूची में नई श्रेणियां शामिल

स्वास्थ्य विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यहां कहा कि हिमाचल प्रदेश में

कोविड टीकाकरण के उद्देश्य के लिए कर्मचारियों की नई श्रेणियां प्राथमिकता समूह के रूप में शामिल की गई हैं। इन श्रेणियों में सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग, कृषि विभाग, हिमाचल प्रदेश राज्य विपणन बोर्ड, बागवानी विभाग, आबकारी एवं कराधान विभाग और ग्रामीण विकास विभाग के कर्मचारी शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि टीकाकरण के लिए इन कर्मचारियों को अपने विभागों के प्राधिकृत अधिकारियों से सत्यापित प्रमाण-पत्र लाना होगा। उन्होंने कहा कि कोविड टीकाकरण के लिए प्राथमिकता समूह सूची में शामिल श्रेणियों की संख्या अब 33 से बढ़कर 38 हो गई हैं। उन्होंने सभी लोगों से जल्द से जल्द अपना टीकाकरण करवाने का आग्रह किया है।